“Valentine Day” एक मीठा ज़हर

0

images

14 वीं फरवरी लोकप्रिय ‘वेलेंटाइंस डे’ के रूप में जाना जाता है। नौजवान लडके लड़कियां दिन भर फूल और उपहार देकर एक दूसरे से प्यार का इज़हार करते हैं. ‘वेलेंटाइंस डे’ पश्चिमी देशो से चला है और हमारे संस्क्रती में पूरी तरह घुल चूका है. आज के मोजूदा दौर में अगर ‘वेलेंटाइंस डे’ नहीं मनाया तो मानो  नौजवान  पिछड़ा हुआ महसूस करने लगते हैं .

‘वेलेंटाइंस डे’ के आड़ में नौजवान लडके लडकियां गलत कामों में लिप्त होते जा रहे हैं. अब हमारे युवा  ‘वेलेंटाइंस डे’ के अलावा और भी बहुत से डे मनाने लगे हैं जैसे फूल डे , हग डे , किस्सिंग डे , मदर डे , या पिता डे. और यह सिलसिला सोशल मीडिया साइट्स जैसे के फेसबुक या wattsaap तक ही सिमित रह गया है.

कभी सोचा है की क्या माता पिता को प्रेम करने की कोई अवधि होती है ? या कभी उन्होने आपको पालने पोषने में यह डे मनाये थे कि आज बेटा डे या बेटी डे है ? पता नही आज का नौजवान इस रीती को क्यूँ अपनाये हुए है. इससे होने वाले दुष्ट परिणाम से अवगत क्यूँ नहीं हो रहा ? देश में रोजाना रेप बलात्कार की संख्या बढती जा रही है इस की एक वजह ये भी है के हम अपनी संस्क्रती को भूल कर पश्चिमी देशो संस्क्रती को पूर्ण तरीके से अपना चुके हैं.

आएये देखते है क्या वैलेंटाइन डे से होने वाले दुष्ट परिणाम  :-

इस दिन नौजवान लडके लड़कियां पब ,सिनेमाघर ,होटल , समुद्र किनारे एक साथ आते मिलते जुलते है और अनेक अश्लील हरकते करते हैं जिससे वहां एक आम आदमी या सभ्य परिवार के लोग जाते हुए भी कतराते हैं. खुछ संगठनों के द्वारा नौजवान लडके लड़कियों के लिए प्रोग्राम का आयोजन भी किया जाता है. जो अच्छा खासी फीस भी लेती है.

स्कूलों कालेजों मैं लडके लड़कियों के कम उम्र में कार्ड्स या उपहार एक दुसरे को देने से एक दुसरे के लिए प्यार व्यक्त करने की प्रक्रिया उनको विपरीत  सेक्स की तरफ आकर्षित कर रही है जो की इस उम्र में गलत है जिस उम्र में बच्चों को पडने में ध्यान देना चाहिए वो इन सब डे पे ध्यान देते हैं जिससे उनका  mind divert होता है.

इसके लिए काफी हद तक विद्यालय ,कालेज ,स्कूल भी ज़िम्मेदार है क्यों की वह बच्चों को इसके परिणाम से अवगत नहीं करते. इसका एक और दुष्ट परिणाम यह भी है की कई ऐसी लड़कियां हैं जो शादी या किसी चीज़ की लालच में पड़ कर कुछ गलत कर बैठतीं हैं उनको जिंदगी भर ज़बरदस्त मानसिक व शारीरिक परिस्तिथियाँ उत्पन हो जाती है

जिसके वजह से या तो लड़कियां बीमार रहने लगती हैं या फिर समाज के डर से ख़ुदकुशी कर लेती है  और दूसरी तरफ वैलेंटाइन डे मनाने वाले अधिकतम युवा अलग अलग समुदाय या गौत्र से होते है और अलग अलग भाषा संस्क्रती होने के बावजूद विवाह होता जाता है बाद में अलग अलग संस्क्रती होने के वजह से आपस में झगड़े, मारपीट, पोलिस थाना के साथ तलाक़ तक की नौबत आ जाती है . जिसमें दो जिंदगियां नहीं बल्की जो जो उनके साथ जुड़ा होता है सब की जिंदगियां बर्बाद हो जाती हैं. और इसी Valentine Day के बाद खुछ भी होता है तो कुछ राज्यनेतिक पार्टियाँ Love Jihaad का नाम देने लगती हैं और देश में अराजकता का माहौल पैदा करती हैं.

आइये देखे क्या कहा अलग अलग मज़हब के लोगोंगों ने Valentine डे के लिए.

मुस्लिम धर्मगुरु :- शेख़ ‘अब्द-अल्लाह इब्न अब्द अल-रहमान इब्ने जिब्रीन :– इस्लाम में ऐसे त्यौहार मनाने की कोई अनुमति नहीं है, क्योंकि यह एक नई ईजाद नवाचार (bid’ah) है  जो शरीअत के खिलाफ है.

हिन्दू :- “अगर आप प्यार में हैं, तो आप शादी कर लेनी चाहिए,” अशोक शर्मा, हिंदू महासभा, उपाध्यक्ष ने कहा हमे  इस तरह के युवा जोड़ों मिल जाए, तो हम उन्हे मिल वाके शादी करवा देंगे ।”

इससे जुडी कई परंपरा भी है वेलेंटाइंस जेल में बंद था और माना जाता है कि उन जिसे वह शादी की थी उसे नोटों और फूलों से पारित कर जेल में डाल दिया था। इसके अलावा, जबकि जेल में उन्होंने जेलर की बेटी से प्यार हो गया। उसकी फांसी से पहले वह उसके हस्ताक्षर किए, एक प्रेम पत्र लिखा है जिस मैं लिखा था  “अपने वेलेंटाइन।”

खैर जो भी हो हमको और हमारे नौजवान बच्चों को यह तय करना है की वो अपनी संस्क्रती को बरक़रार रखना चाहते हैं या इस तरह का slow poison अपने अंदर घुलने देना है . वैसे भी किसी विध्वान शख्स ने कहा है की ‘ अगर किसी कौम को ख़तम करना है तो पहले उसकी संस्क्रती को ख़तम करो’ ..

वैसे हम लोकतान्त्रिक देश में रह रहे हैं सब की अपनी अपनी जिंदगी है और अपना अपना तरीका है  प्यार का इज़हार कर ने का हम किसी को भी यह हरगिज़ नहीं थोप रहे हैं की आप valentine न मनाये लेकिन इससे होने वाले दुष्ट परिणाम हम आप को आगे भुगतने होगें क्यूँ की युवा इतनी तेज़ी से आगे बड रहा है वो भी गलत दिशा में की बाद में हम चाह कर भी रोक नहीं पायेगे..

अगर आप सहमत हैं तो एक compain शुरू करिए कही जाने की ज़रुरत नहीं है बस अपने छोटे बच्चों भाई , बहेन,बेटियों से इसके बारे में बात करें और उनको GOOD Touch/ Bad Touch के बारे में भी अवगत कराये.

valentine-day-e1455469279553

16195237_154114508421236_9101178377551126511_n

(Writer)

Syed Danish Jafar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *