चीन से नहीं मिली मदद, तो नॉर्थ कोरिया से अकेले निपटेगा US: ट्रंप

0

ap_poll_trump_russia__bhawya.joshi_intoday.com_1_1491201151_749x421अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया को लेकर बड़ा बयान दिया है. ट्रंप ने कहा कि अगर चीन उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम के खिलाफ कड़ा कदम नहीं उठाता है तब अमेरिका अकेले ही कार्रवाई करने के तैयार है. साउथ फ्लोरिडा में अपने मार-ए-लेगो एस्टेट में चीनी राष्ट्रपति शी चिनपिंग की मेजबानी करने के कुछ ही दिन पहले ट्रंप ने फाइनेंशियल टाइम्स के साथ एक साक्षात्कार में यह टिप्पणी की है.

 बृहस्पतिवार और शुक्रवार को होने वाली बैठक के दौरान शी और ट्रंप के बीच उत्तर कोरिया, व्यापार और दक्षिण चीन सागर में क्षेत्रीय विवाद समेत कई सारे मुद्दों पर चर्चा होने की संभावना है. ट्रंप ने अखबार से कहा कि हां, हम उत्तर कोरिया के बारे में बात करेंगे. उन्होंने कहा कि उत्तर कोरिया पर चीन का बहुत प्रभाव है और या तो चीन उत्तर कोरिया को लेकर हमारी मदद करने का फैसला करेगा या नहीं करेगा. अगर चीन हमारी मदद करने का फैसला करता है तो यह उसके लिए बहुत अच्छा होगा और अगर वह ऐसा नहीं करता है तो यह किसी के लिए अच्छा नहीं होगा.

मैं अतीत का अमेरिका नहीं
ट्रंप ने कहा कि चीन के लिए अमेरिका के साथ काम करने की वजह व्यापार है. उन्होंने कहा कि चीन की मदद के बिना अमेरिका, उत्तर कोरिया में हालात से निपट सकता है. जब उनसे पूछा गया कि वह उत्तर कोरिया से कैसे निपटेंगे तब ट्रंप ने कहा, मैं यह आपको बताने नहीं जा रहा हूं आप जानते हैं, मैं अतीत का अमेरिका नहीं हूं जहां हम आपको यह बताएंगे कि हम पश्चिम एशिया में कहां पर क्या करने जा रहे हैं.

अमेरिका और चीन को चुनौती
गौरतलब है कि आए दिन नॉर्थ कोरिया की ओर से मिसाइल, रॉकेट की टेस्टिंग से अमेरिका-चीन और जापान परेशान हैं. इस बीच, अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन जापान और दक्षिण कोरिया की यात्रा करने के बाद शनिवार को बीजिंग पहुंचे. नॉर्थ कोरिया को रोकने के लिए अमेरिका और चीन ने साथ आने के लिए हामी भरी है. अमेरिका के खिलाफ उसके हथियार कार्यक्रम को रोक सकें ऐसी लगातार कोशिश हो रही है.

नॉर्थ कोरिया अमेरिका के लिए कैसे खतरा?
नॉर्थ कोरिया अमेरिका को लगातार चुनौती देता रहा है. ओबामा के बाद ट्रंप प्रशासन में भी किम जोंग उन ने हथियारों के विस्तार कार्यक्रम को बंद नहीं किया है. पिछले साल जनवरी में नॉर्थ कोरिया ने हाइड्रोजन बम का टेस्ट किया था. ट्रंप की चेतावनी के बाद भी नॉर्थ कोरिया हथियारों के विस्तार कार्यक्रम से पीछे नहीं हट रहा है. साउथ कोरिया, अमेरिका और जापान जैसे देश इसे लेकर कई बार यूएन में शिकायत कर चुके हैं. इस साल उत्तर कोरिया ने पांच परमाणु और एक मिसाइल सीरीज के परीक्षण की शुरूआत की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *